मंगलवार, मार्च 01, 2011

इक दिल के उसने हजार टुकड़े किये


इक दिल के उसने हजार टुकड़े किये ,
हर टुकड़े को मैँने एक नया दिल बना रखा है ।

कसम दी उसने दिल का हाल किसी से ना कहेँ ,
हर जुबां को उसकी मैँने अहदे वफा बना रखा है ।

दिल से चाहा उसे वफा करता रहा मैँ ,
सामने सभी के मगर बेवफा बना रखा है ।

20 टिप्पणियाँ:

OM KASHYAP ने कहा…

सरल और स्पष्ट रचना

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह

vandan gupta ने कहा…

वाह मोहब्बत हो तो ऐसी……………बहुत सुन्दर्।

उस्ताद जी ने कहा…

कसम दी उसने दिल का हाल किसी से ना कहेँ ,
हर जुबां को उसकी मैँने अहदे वफा बना रखा है ।

वाह जनाब वाह क्या बात है
बहुत खूब
मोहब्बत हो तो ऐसी

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

pyari si mohabbat:)

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत..

केवल राम ने कहा…

क्या गजब है भाई .....
हर एहसास को मैंने दिल में छुपा रखा है..!

Kunwar Kusumesh ने कहा…

कसम दी उसने दिल का हाल किसी से ना कहेँ ,
हर जुबां को उसकी मैँने अहदे वफा बना रखा है ।

उफ़ ये मुहब्बत.
"वैसे मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है"

निर्मला कपिला ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति।n

Shah Nawaz ने कहा…

वाह... बेहतरीन!!!

रमेश कुमार जैन उर्फ़ निर्भीक ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति!

दिल से चाहा उसे वफा करता रहा मैँ ,
सामने सभी के मगर बेवफा बना रखा है ।

www.navincchaturvedi.blogspot.com ने कहा…

खूबसूरत एहसास बाकी कुँवरजी का आशीर्वाद तो आप को मिल ही चुका है

आपका अख्तर खान अकेला ने कहा…

bhaiajaan aapki mhbubaa qsaai thi isliyen usne dil ke to tukde kr diye lekin aap bhi km baagvaan nhin tukdon se hi aek nya dil uga liyaa to jnaab yeh to hui mzaaq ki baat lekin ab shi bat to yeh he ke gzl or uski thim men dm he dil ko chhu liyaa he aapki is gzl ne bdhaai ho jnab. akhtar khan akela kota rajsthan

Unknown ने कहा…

क्या बात है...चाहत हो तो ऐसी वर्ना क्या रखा है..
अच्छी रचना...

रचना दीक्षित ने कहा…

बेहद खूबसूरत अहसास

DR.ASHOK KUMAR ने कहा…

>>> ओम कश्यप जी
>>> प्रवीण पाण्डेय जी
>>> वन्दना जी
>>> उस्ताद जी

आप सभी का ब्लोग पर आकर हौशलाअफजाई करने और स्नैह के लिए धन्यवाद ।

DR.ASHOK KUMAR ने कहा…

>>> मुकेश कुमार सिंहा जी
>>> कैलाश सी शर्मा जी
>>> कुवँर कुशमेश जी
>>> केवल राम जी

आप सभी का ब्लोग पर आकर प्रोत्साहन एवं सहयोग के लिए बहुत बहुत आभार ।

DR.ASHOK KUMAR ने कहा…

>>> निर्मला कपिला जी
>>> शाहनवाज जी
>>> रमेश कुमार जैन जी
>>> नवीन सी चतुर्वेदी जी

आप सभी का सहयोग एवँ स्नैह के लिए तहेदिल से शुक्रियाँ ।

DR.ASHOK KUMAR ने कहा…

>>> अख्तर खान अकेला जी
>>> वीना जी
>>> रचना दीक्षित जी

आप सभी का स्नैह एवं प्रोत्सहन के लिए शुक्रियाँ ।

Renu goel ने कहा…

कुछ कुछ खुशनुमा सी .....